Create an Account

उदयपुर की मूर्तिकला में अभिव्यक्त पार्थिव जगत

Earth World Expressed In Sculpture Of Udaipur (Hindi)

85.00

ISBN: 9788179063521
Categories:
ISBN 9788179063521
Name of Authors Dr. Hemendra Choudhary
Name of Authors (Hindi) डॉ. हेमेन्द्र चौधरी
Edition 1st
Book Type Paper Back
Year 2013
Pages 38
Language Hindi

कला आन्तरिक मनोभावों की सच्ची परिचायिका है| भारतीय ललित कलाओं में मूर्तिकला का विशिष्ट स्थान रहा है| मूर्तिकला द्वारा मनुष्य अपनी भावनाओं तथा विचारों का प्रत्यक्षीकरण करता है| उदयपुर में शैव. वैष्णव, शाम्य और सूर्य मंदिरों तथा देवालयों की प्रमुखता रही है| इन मंदिरों पर उत्कीर्ण मूर्तियाँ तत्कालीन पार्थिव जगत को स्पष्ट करती है| पुरातात्विक द्रष्टि से मूर्तियों का स्थान महत्वपूर्ण है, इसी द्रष्टिकोण से इसे पुस्तक में मैने पार्थिव जगत के हर पहलु को समझने का प्रयास किया है| प्रस्तुत पुस्तक में विष्णु मन्दिर व लक्ष्मीनारायण मन्दिर, आहाड़ तथा गंगोदभव शिवालय, आहाड़ एवं रत्नेश्वर शिवालय, शोभागपुरा के स्थापत्य का विश्लेषण किया है| इन मन्दिरों में उत्कीर्ण मूर्तियों में परिलक्षित धार्मिक प्रवृत्तियां, व्यावसायिक प्रक्रियाएं, वात्सल्य प्रेम की भावनाएँ, सैन्य किवं, शिक्षा-दीक्षा, संगीत-नृत्य और परिधान-आभूषण आदि विशेषताएँ इस पुस्तक की महत्वता है|

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Earth World Expressed In Sculpture Of Udaipur (Hindi)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *